इस विश्व अंडा दिवस पर एक अंडा तोड़ें और दुनिया में व्याप्त भुखमरी पर काबू पाने में मदद करें

10 अक्तूबर 2014 विश्व अंडा दिवस है ैवइसे अंडों के साथ मनाएँ और भूख, खाद्य असुरक्षा और कुपोषण को खत्म करने में मदद करें। नई इंटरनेशनल एग फाउंडेशन (अंतर्राष्ट्रीय अंडा संस्थान) ने अपने शुरुआती महीनों में दो परियोजनाएँ प्रारंभ की हैं जिनमें दक्षिण अफ्रीका में लोगों की जिंदगी बदलने में मदद करने के लिए पहले से ही अंडों का उपयोग किया जा रहा है।

इंटरनेशनल एग फाउंडेशन (IEF) इस वर्ष पहली बार अंतर्राष्ट्रीय अंडा दिवस मना रही है। IEF नई वैश्विक धर्मार्थ संस्था है जो कुपोषण से लड़ने के अपने लक्ष्य के भाग के रूप में विकासशील देशों में रहने वाले लोगों को अधिक से अधिक अंडों तक पहुँच प्रदान करते हुए अल्पपोषित और कुपोषित लोगों तक जीवन निर्वाह योग्य आहार पहुँचाने में मदद करती है।

IEF अफ्रीका के निवासियों के लिए दिल से कार्य करते हुए गर्व महसूस करती है, जिसमें यह बच्चों को प्रोटीन के आवश्यक स्रोत के रूप में अच्छी तरह पके हुए अंडे वितरित करके स्वाजीलैंड के एक अनाथालय की मदद कर ही है। केनान प्रोजेक्ट नामक इस परियोजना के तहत अनाथालय और स्थानीय समुदाय को स्थायी जीवन निर्वाह योग्य आहार उपलब्ध कराने के लिए अंडा फार्म के निर्माण में वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी और उसका प्रबंधन किया जाएगा।

IEF बोत्सवाना, लेसोथो, मलावी, मोज़ाम्बिक, जाम्बिया और जिम्बाब्वे में स्थित राष्ट्रीय अंडा संगठनों की मदद करने के लिए संयुक्त राष्ट्र खाद्य और कृषि संगठन के साथ अपनी जानकारी और तकनीकी विशेषज्ञता साझा करते हुए कार्य कर रही है, ताकि इन देशों में रहने वाले लोगों के लिए उपलब्ध अंडों की संख्या में वृद्धि की जा सके। IEF FAO की अंडा क्षमता बढ़ाने की संगोष्ठियों के माध्यम से ये दक्षिण अफ्रीकी देश अपने राष्ट्रों में अंडों की पैदावार बढ़ाने और इस प्रकार अपने देशों के निवासियों के लिए उपलब्ध अंडों की संख्या में वृद्धि करने के लिए कार्य कर रहे हैं।

अंतर्राष्ट्रीय अंडा संस्थान (IEF) की प्रबन्ध निदेशक जुलियन मेडले ने स्पष्ट कियाः जब“ विकासशील देशों में आहार को बेहतर बनाने में मदद करने की बात आती है, तो अंडे के दो मुख्य लाभ हैं। यह उच्च गुणवत्ता वाले प्रोटीन से भरपूर उत्कृष्ट स्रोत है जिसमें स्वस्थ आहार के लिए आवश्यक विटामिन और खनिज मौजूद है और साथ ही साथ ये उच्च गुणवत्ता वाले प्रोटीन के सबसे सुलभ रूपों में से एक हैं जो सही मायने में स्थायी जीवन निर्वाह योग्य विकल्प है।

स्थायित्व“ महत्वपूर्ण है, हमारा लक्ष्य लोगों को सहायता और जानकारी प्रदान करना है ताकि वे अपनी मदद स्वयं करने में निरंतर सक्षम हो सके। भोजन तक पहुँच प्रदान करने के साथ ही छोटे पैमाने की अंडा उत्पादन योजनाएँ विकासशील देशों के लोगों को आर्थिक रूप से स्वतंत्र बनाने, उनकी सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि करने, और सामाजिक भावना को प्रोत्साहित करने में मददगार साबित हुई हैं। IEF जीवन निर्वाह योग्य आत्मनिर्भर खाद्य आपूर्ति करने के लिए जमीनी स्तर से काम करती है।”

FAO द्वारा प्रस्तुत आंकड़े दर्शाते हैं कि 8700 लाख लोग दीर्घकालिक भुखमरी के शिकार हैं। बच्चों के बीच, अनुमान है कि पाँच वर्ष से कम आयु वाले लगभग 1710 लाख बच्चे लंबे समय से कुपोषण के शिकार हैं। अंतरार्ष्ट्रीय अंडा उद्योग अंडों कीं शक्ति का उपयोग करके एक फर्क पैदा करने के लिए दृढ़ संकल्प है।

इस वर्ष 10 अक्तूबर को विश्व अंडा दिवस पर एक अंडे को तोड़ें और अंडे की शक्ति और इसकी सभी अच्छाइयों के साथ इसे मनाने में मदद करे।

Comments are closed.

← Back